सीएम योगी का तोहफा, 1 करोड़ युवाओं को UP सरकार देगी स्मार्टफोन और टैबलेट

0
303

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश को डिजिटल बनाने के लिए अब उत्तर प्रदेश के युवाओं को टैबलेट और स्मार्ट फोन देने की घोषणा कर दी है, आपको बता दें की ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन या किसी भी डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश लेने वाले छात्रों को सरकार स्मार्ट फोन और टैबलेट देगी, इसी के साथ वकीलों को भी अब सरकार सामाजिक सुरक्षा के तहत 5 लाख रुपए देगी, जो की पहले 1-5 लाख रुपए था, यह टैबलेट और स्मार्ट फोन उन युवाओं को मिलेगा जो की ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन या किसी भी डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश लेंगे, सरकार ने इसके लिए 3 हजार करोड़ रुपए का एक कोष भी गठित किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सदन में भाषण देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के 1 करोड़ युवाओं को जल्द ही स्मार्टफोन बांटे जाएंगे, वहीं प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवाओं को “प्रतियोगी परीक्षा भत्ता” भी दिया जाएगा, सदन में पर योगी आदित्यनाथ ने चर्चा किया।

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 से पहले सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने युवाओं को एक बड़ा तोहफा दिया है, मुख्यमंत्री ने प्रदेश के युवाओं को स्मार्ट फोन और टैबलेट देने की घोषणा की है, यह स्मार्ट फोन और टैबलेट प्रदेश के उन युवाओं को मिलेगा जो की ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन या किसी डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश लेंगे। सरकार तीन प्रतियोगी परीक्षाओं में आने-जाने का भत्ता भी मुहैया भी कराएगी, साथ ही मुखयमंत्री ने सरकारी कर्मचारियों को भी लुभाने के लिए कई घोषणाएं की हैं।

अब यूपी के युवाओं के लिए 3,000 करोड़ का विशेष कोष होगा तैयार

उत्तर प्रदेश सरकार ने कुल 7301 करोड़ 51 लाख 58 हजार रुपये का बजट पेश किया था, जिसको की सदन ने पास कर दिया है , और यह मूल बजट का 1.33% है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह बताया की 28 लाख कर्मचारियों व पेंशनधारकों को 1 जुलाई 2021 से 11 फीसदी बढ़ोतरी के साथ 28 फीसदी मंहगाई भत्ता मिलने जा रहा है।
उत्तर प्रदेश सरकार अब युवाओं के लिए 3,000 करोड़ का एक विशेष कोष तैयार करने जा रही है मुख्यमंत्री ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए पेश अनुपूरक बजट को युवाओं, कोरोना योद्धाओं और फील्ड कर्मचारियों को समर्पित किया है , सीएम ने पीआरडी जवान, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों, मिनी आंगनबाड़ी व सहायिकाओं, रोजगार सेवकों, रोजगार सेवकों अल्प मानदेय वाले कार्मिकों के मानदेय में बढ़ोतरी की घोषणा की। बता दें की अपने मानदेय की बढ़ोत्तरी की मांग लेकर आशा, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों, मिनी आंगनबाड़ी व सहायिकाओं, ने कई बार धरना प्रदर्शन भी किया है लगभग हर सरकार में ये अपनी मांग को रखती है पर सरकार मानदेय को बढ़ाने के विषय पर ज्यादा ध्यान नही देती नज़र आई है, चुनाव से लेकर हर छोटे बड़े कार्यो में , किसी भी योजना में यहाँ तक टीकाकरण जैसे हर विषयो पर ग्रामीण स्तर पर आशा, आंगनबाड़ी कार्यकत्री , मिनी आंगनबाड़ी व सहायिकाओं, की अहम् भूमिका देखने को मिलती है ,इसके बावजूद भी सरकार इनके मुद्दों को टालती नजर आती रही हैं।

साढ़े चार साल में दी गईं साढ़े चार लाख सरकारी नौकरियां

योगी आदित्यनाथ ने सदन में अपने सम्बोधन में कहा की , उत्तर प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय दोगुना हो गया है, बीतें 4 साल में 1 लाख 52 हजार कन्याओं की शादी कराई गई और प्रधानमंत्री आवास योजना आने के बाद 2017 तक केवल 10 हजार आवास स्वीकृत हुए थे और 2017 के बाद से अब तक 40 लाख आवास स्वीकृत हो चुके हैं। साढ़े चार साल में साढ़े चार लाख सरकारी नौकरियां भी दी गईं हैं। उन्होंने उत्तर प्रदेश के बिजली के मुद्दों पर भी बात करते हुए कहा की “प्रदेश में पिछले साढ़े चार साल में 2 करोड़ 94 लाख लोगों को विद्युत कनेक्शन दिया गया और 3 करोड़ 94 लाख लोगों को रसोई गैस के कनेक्शन उपलब्ध करवाए जा चुके हैं, यह सब बिना किसी की जाति व धर्म देखकर किया गया है, वाराणसी में श्री काशी विश्वनाथ कारिडोर प्रोजेक्ट और ‘नव्य अयोध्या’ के लिए भी खजाना खोला गया है। “ इन सभी विषयो पर बात करते हुए योगी ने उत्तर प्रदेश में हुए विकाश और सभी नए योजनाओ की भी बातचीत की।

पिछले पांच साल में दोगुना हुआ उत्तर प्रदेश का बजट

अपने सम्बोधन के दौरान सदन में योगी आदित्यनाथ ने बजट की बात करते हुए यह कहा की पिछले 5 वर्षो में उत्तर प्रदेश का बजट दो गुना हो गया है , 2015-16 में 03 लाख करोड़ का बजट था उन्होंने इस डाटा को प्रस्तुत करते हुए कहा की “24 करोड़ की आबादी वाले प्रदेश में ढाई-तीन लाख करोड़ का बजट ऊंट के मुंह में जीरा साबित होता था”, यही कारण है की पिछले कई दसकों से उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था काफी पिछड़ी हुई थी लेकिन आज उत्तर प्रदेश देश में निवेश के लिए सबसे अच्छे प्रदेशो में शामिल हो गया है। उन्होंने यह भी बताया की ‘19 अगस्त को सरकार का 04 वर्ष 05 माह का कार्यकाल पूरा हो रहा हैऔर इस अवधि में प्रदेश का बजट दोगुना हुआ है। आज हम लगभग 6 लाख करोड़ रुपये का बजट बनाने में सफल हुए हैं, 5 साल पहले सकल राज्य घरेलू उत्पाद 10-11 लाख करोड़ थी, वहीँ आज ये 20-21 लाख करोड़ रुपये तक पहुँच गई है ,2015-16 में उत्तर प्रदेश देश की अर्थव्यवस्था में छठे नंबर पर था और आज दूसरे नंबर पर है। 05 वर्ष पहले तक साढ़े 17% रही बेरोजगारी दर आज 5% तक आ गई है’।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here