उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर, क्या है वजह।

0
139

पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने खिलाफ चुनाव लड़ने की बात कही है, आगामी विधानसभा चुनाव में मौजूदा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान किया है अपने ट्विटर अकाउंट से एक वीडियो पोस्ट करके बोलते नजर आ रहे की “मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ द्वारा तमाम अलोकतांत्रिक, विभेदकारी, दमनकारी कार्य किए गए है और नीतियां बनाई गई है। इन सबके विरोध में मैने निर्णय लिया है कि आगामी 2022 का विधानसभा चुनाव में योगी आदित्यनाथ जहां से चुनाव लड़ेंगे, वहां से मैं भी निश्चित रूप से चुनाव लडूंगा।”

और अमिताभ ठाकुर ने कहा की मेरे चुनाव लड़ने की बात कहने के बाद मेरे तमाम साथी लगातार मुझे योगी आदित्यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए प्रेरित कर रहे है, और इसी वजह से सभी बातों को गंभीरता से देखते हुए मैने निर्णय लिया है की मैं जहां से योगी आदित्यनाथ विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे मैं वहा से चुनवा निश्चित तौर पर लंडूगा। और वही दूसरे ट्वीट में लिखते है की मैं जानता हूं की मुझे वोट बहुत कम मिलेंगे, नाममात्र के, क्योंकि मुझमें नेताओ वाले गुण नही है। लेकिन इतना जरूर है की उस चुनाव में योगी जी से आचार संहिता का पूर्ण पालन करवा दूंगा।

कौन है अमिताभ ठाकुर

अमिताभ ठाकुर उत्तर प्रदेश कैडर के 1992 बैच के आईपीएस अफसर थे। अमिताभ ठाकुर के ऊपर कई आरोप लगाए जाते है जिन पर तीन मुख्य आरोप है। जिसमे विभाग ने इसके खिलाफ आरोप पत्र भी जारी किया था।
आरोपपत्र के अनुसार अफसर द्वारा 16 नवम्बर 1993 को आईपीएस की सेवा प्रारंभ करते समय अपनी संपत्ति का ब्यौरा शासन को नहीं दिया गया। साथ ही उन्होंने 1993 से 1999 तक का वर्षवार संपत्ति विवरण शासन को एकमुश्त दिया। आरोपपत्र में आईपीएस पर जो दूसरा आरोप लगाया है उसके मुताबिक अमिताभ ठाकुर द्वारा वर्षवार दिए गए वार्षिक संपत्ति विवरण में काफी भिन्नताएं हैं। साथ ही उनके द्वारा अपनी पत्नी व बच्चों के नाम से काफी संख्या में चल एवं अचल संपत्तियां, बैंक व पीपीएफ जमा, ऋण व उपहार प्राप्त हुए थे, किन्तु उन्होंने इसकी सूचना शासन को नहीं दी।इन कार्यों को अखिल भारतीय आचरण नियमावली 1968 के नियम 16(1) तथा 16(2) का उल्लंघन बताते हुए अमिताभ ठाकुर को 15 दिन में इनके संबंध में अपना जवाब देने को कहा गया है। इससे पूर्व अमिताभ ठाकुर पर 04 विभागीय कार्रवाइयां चल रही हैं जो वर्ष 2015-16 में शुरू हुई थीं।

अमिताभ के ऊपर एक महिला ने दर्ज कराया बलात्कार का एफआईआर।

गोमतीनगर थाने में एक महिला ने अमिताभ के ऊपर बलात्कार करने का एफआईआर दर्ज कराया है। अमिताभ ठाकुर के खिलाफ धारा 376 (बलात्कार), 504 (अपमानित करने) तथा 506 (धमकाने) के तहत कल रात मुकदमा दर्ज कराया। उन्होंने बताया कि ठाकुर की पत्नी सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर को भी मामले में सह-अभियुक्त बनाया गया है। उन पर जुर्म में अपने पति का साथ देने का आरोप है। थाना प्रभारी ने बताया कि शिकायतकर्ता महिला ने आरोप लगाया है कि पिछले साल नवम्बर में नूतन गाजियाबाद आयी थीं जहां मुलाकात के दौरान उन्होंने उसे नौकरी दिलाने के लिये लखनऊ बुलाया था। महिला का इल्जाम है कि 31 दिसम्बर की रात को वह अपने पति के साथ नूतन के लखनऊ स्थित घर गयी थी। नूतन ने उसे ठाकुर के कमरे में साक्षात्कार के लिये भेजा था, जहां उन्होंने उससे बलात्कार किया था।

मुलायम सिंह से भी भीड़ चुके है ठाकुर।

अमिताभ ठाकुर ने मुलायम सिंह यादव पर धमकाने और उनसे खुद की जान का खतरा भी बता चुके है। अमिताभ का आरोप है की मुलायम सिंह यादव ने उन्हें फोन पर धमकाया था, जबकि वही मुलायम सिंह यादव का कहना है की धमकाया नही था समझाया था क्यूंकि लगातार शिकायत मिल रही थी की जनप्रतिनिधियों और कार्यकर्त्ताओं से और समाचार के माध्यम से सुनने को मिलता था कि जहां कोई संवेदनशील घटना हो जाती थी वहां अमिताभ जाकर मनमाने ढंग से बयानबाजी करते थे, जिससे वहां का माहौल और खराब होता था। और यही कारण था की मैंने फोन करके समझाया था ना की डराने का धमकाने का मकसद था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here