सपा सांसद ने तालिबान को सही ठहराया, UP में देशद्रोह का केस दर्ज

0
134

अफगानिस्तान में जहाँ तालिबान का कब्जा हो गया है, तालिबान के डर से अफ़ग़ानिस्तान के लोग वह से देश छोड़ कर भागना छह रहे है। तो वही पर भारत में भी इस मुद्दे पर राजनीति शुरू हो गई है। मंगलवार को समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क ने तालिबान का समर्थन करते हुए कहा था कि उन्होंने अपने देश को यानी अफगानिस्तान को आजाद कराया है। तालिबान ने अफगानिस्तान में अमेरिका और रूस के भी पैर नहीं जमने दिए हैं। तालिबान की अगुवाई में अफगानी लोग अमेरिका से आजादी चाहते हैं जिस तरह से भारत में भी अंग्रेजों से आजादी के लिए पूरे देश ने मिलकर लड़ाई लड़ी थी, इसी प्रकार तालिबान ने भी मिलकर अपने देश को आजाद कराया है। ऐसा बयान देने पर अब उनके खिलाफ उत्तर प्रदेश में देशद्रोह का केस भी दर्ज हो गया है।

अफगानिस्तान में तालिबान का कब्ज़ा करने के बाद जो हाल अफ़्ग़ानियो का हो रहा है उस पर हर कोई बस अफगानिस्तान में रह रहे लोगो के सलामती क लिए प्रार्थना कर रहा है इस कब्जे को लेकर जहा कुछ देशो को छोड़ दे तो दुनिया चिंतित है इस कब्जे को लेकर हर कोई परेशान है और अफगानिस्तान में जल्द सब कुछ सही हो और वहा भी शान्ति हो इसकी दुआ कर रहा है , तो वही भारत में कई लोग तालिबान को सही भी ठहराते नजर आ रहे है इन्ही लोगो में आप संभल के समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर रहमान बर्क अफगानिस्तान को आजादी मिल गई है तालिबान ने अफगानिस्तान को आजाद करने का काम किआ है उन्होंने कहा की ‘अफ़ग़ानिस्तान की आजादी उसका निजी मामला है आखिर अमेरिका अफगानिस्तान पर हुक्म क्यों चला रहा’ उन्होंने तालिबान को उनकी ताकत भी कह दिया है उनके अनुसार अफगानिस्तान में न अमेरिका के और न ही रूस के पैर जमने दिया है तालिबान ने ,अफ़ग़ानिस्तान के लोगो तालिबान के साथ अफगानिस्तान की आजादी चाहते थे अमेरिका जैसे देशो से ,उन्होंने अफगानिस्तान में तालिबान की कार्रवाई की तुलना भारतीय स्वतंत्रता संग्राम से कर दी।

अफगानिस्तान की राजधानी पर अब है तालिबान का कब्जा

आपको बता दें कि तालिबान ने अफगानिस्तान की राजधानी काबुल पर कब्जा कर लिया है और अब अपने शासन की घोषणा भी कर दी है, अफगानिस्तान के लोगों द्वारा चुने हुए राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है और देश छोड़कर चले कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक वो अमेरिका में है तो कुछ के मुताबिक वो ओमान या उज्बेकिस्तान में सरण लिए है। कई रिपोर्ट्स दावा कर रहे है। अमेरिका में जो बाइडेन ने राष्ट्र​पति बनने के तुरंत बाद ही अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुला लिया था, तालिबान ने 2 महीने से भी कम समय में अफगानिस्तान को कब्जे में ले लिया। जो बाइडेन के इस फैसले के बाद तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान पर कब्ज़ा जमा लिया है जिस पर उनकी वर्ल्ड लेवल पर आलोचना भी की जा रही है ,ट्रम्प ने तो जो बाइडेन को इस्तीफ़ा तक देने को भी कह दिया है।

इससे पहले भी विवादित बयान दे चुके हैं सपा के सांसद शफीकुर रहमान बर्क

संभल से सपा के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने इससे पहले भी एक बयान में ये कहा था कि कोरोना कोई बीमारी नहीं है, “अगर यह बीमारी होती तो दुनिया में इसका इलाज जरूर होता। यह तो आसमानी आफत है जो केंद्र सरकार द्वारा मोदी सरकार द्वारा शरीयत के साथ छेड़छाड़ करने की वजह से आई है। अल्लाह के सामने रो कर और गिड़गिड़ा कर माफी मांगने से ही कोरोना खत्म होगा”। शफीकुर्रहमान बर्क ने योगी सरकार द्वारा लाए जा रहे जनसंख्या नियंत्रण कानून को मुस्लिमों को परेशान करने का हथकंडा भी बताया था। उन्होंने पैदाइश को अल्लाह का कानून बताया था और कहा था कि कुदरत से टकराना ठीक नहीं है। ऐसे तमाम मुद्दों पर अजीबो गरीब विवादित बयान के लिए शफीकुर रहमान बर्क चर्चा में बने रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here