कल्याण सिंह को ‘श्रद्धांजलि’ देने नहीं पहुँचे ‘सपा’ और ‘कांग्रेस’ के नेता, अखिलेश की भूल या वोट बैंक की राजनीती में भूल गए नैतिकता ?

0
128

उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम कल्याण सिंह को ‘श्रद्धांजलि’ देने नहीं आने को लेकर ओबीसी नेताओं के निशाने पर अखिलेश यादव, राहुल गाँधी और प्रियंका गांधी आ गए हैं, भाजपा ने इसको लेकर इन सभीओ नेताओं पर तंज कसा है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह के घर जाकर समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा श्रद्धांजलि न दिए जाने पर भाजपा ने सवाल उठाए हैं, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने ट्वीट कर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर सीधा निशाना साधा है।

“क्या अखिलेश को मुस्लिम वोट बैंक के प्यार ने रोका ?”

उत्तर प्रदेश के भाजपा प्रमुख ‘स्वतंत्र देव’ सिंह ने मंगलवार को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य मंत्री कल्याण सिंह को श्रद्धांजलि नहीं देने का आरोप लगाया और मुस्लिम वोट बैंक के लिए उनके “प्रेम” का हवाला दिया, जिसके कारण उन्हें श्रद्धांजलि देने से रोका गया। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वो एक हिंदुत्व आइकन और एक ओबीसी (OBC ) लोध जाति के नेता थे , कल्याण सिंह राज्य के मुख्यमंत्री थे जब 1992 में अयोध्या में राम मंदिर के स्थान पर जबरन बने हुए बाबरी मस्जिद को “कार सेवकों” द्वारा ध्वस्त कर दिया गया था। लंबी बीमारी के बाद शनिवार को लखनऊ के एक अस्पताल में उनका निधन हो गया था, जिसके बाद सोमवार को बुलंदशहर के नरौरा कस्बे के बंसी घाट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ भाजपा नेता के अंतिम संस्कार से पहले उनके पार्थिव शरीर को कुछ समय के लिए रखा गया था। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ‘स्वतंत्र देव’ सिंह ने एक ट्वीट में हमला करते हुए कहा कि अखिलेश यादव अपने आवास से लखनऊ में माल एवेन्यू तक कल्याण सिंह को श्रद्धांजलि देने के लिए मुश्किल से एक किलोमीटर नहीं आ सके। उन्होंने अखिलेश यादव पर सीधे रूप से कटाक्ष करते हुए पूछा, “क्या मुस्लिम वोट बैंक के प्यार ने उन्हें पिछड़े वर्ग के सबसे बड़े नेता को श्रद्धांजलि देने से रोक दिया है।”

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने भी नहीं दिया कल्याण सिंह के निधन पर श्रद्धांजलि

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को ‘श्रद्धांजलि’ देने नहीं आए राहुल और प्रियंका, हर मुद्दे पर तुरंत ट्वीट करने वाले राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने कल्याण सिंह के निधन पर शोक भी व्यक्त नहीं किया, इस पर “केशव प्रसाद मौर्य” ने कांग्रेस पार्टी को साफ़ तौर पर आईना दिखाते हुए नैतिकता का पाठ पढ़ाया और साथ ही कहा कि “बाबूजी किसी शोक सन्देश के मोहताज नहीं हैं, लेकिन निधन के बाद भी ऐसा भाव रखने वालों का चरित्र देश और प्रदेश देख रहा है”

अखिलेश और कांग्रेस पार्टी के इस मानसिकता को लेकर प्रदेश भर के OBC वर्ग में गुस्सा

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन की इस दुख भरी घड़ी में भी शामिल न होकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव सीधे तौर पर पिछड़ों के निशाने पर आ गये हैं, समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का कोई भी नेता पिछड़ों के सबसे बड़े माने जाने वाले नेता कल्याण सिंह के अंतिम संस्कार में शामिल होने नहीं पहुंचा था । अखिलेश और कांग्रेस के इस कृत्य से प्रदेश भर के OBC वर्ग में गुस्सा है। इस मामले पर अलग-अलग इलाकों में पिछड़ी (OBC ) जाति के कई नेताओं ने इसकी आलोचना भी की है। कल्याण सिंह के अंतिम संस्कार से किनारा करने को पिछड़ी जातियों का अपमान माना जा रहा है।

कल्याण सिंह के तीन दिनों के अंतिम संस्कार कार्यक्रमों में जहाँ पूरा प्रदेश और देश उमड़ पड़ा वहीं मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव, राहुल गांधी , प्रियंका गांधी जैसे नेताओं के शामिल न होने से पिछड़ा समाज को दुःख पहुंचा है। भाजपा के नेताओं ने भी विपक्षी पार्टियों के इस घिनौने कृत्य की घोर निंदा की है। जबकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तीन दिनों तक एक-एक पल पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर और उनके परिवार के साथ रहे।

यह इनकी तालिबानी मानसिकता को दर्शाता है: सुब्रत पाठक

मुलायम सिंह यादव ने कल्याण सिंह के लिए श्रद्धांजलि के दो शब्द तक नहीं कहे, भाजपा सांसद ने इसे तालिबानी सोच बताया है। सुब्रत पाठक ने ट्वीट कर यह लिखा की , ”हिंदू हृदय सम्राट कल्याण सिंह जैसे जनप्रिय नेता को अगर मुलायम सिंह और अखिलेश यादव श्रद्धांजलि, सम्मान नहीं देंगे तो इससे उनके (कल्याण सिंह) कद पर कोई असर नहीं पड़ेगा, अगर लखनऊ में ये दोनों कल्याण सिंह के आखिरी दर्शन कर लेते तो इससे कारसेवकों पर गोली चलवाने वाली समाजवादी पार्टी को अपने पाप धोने का आखिरी मौका जरूर मिल जाता। लेकिन विनाशकाले विपरीत बुद्धि, यह इनकी तालिबानी मानसिकता को दर्शाता है। ”

घर पहुंचकर कल्याण सिंह को दी मायावती ने श्रद्धांजलि

बता दें की कल्याण सिंह ने अपनी जनक्रांति पार्टी बनाई थी और समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन कर चुनाव भी लड़ा था वहीं दूसरी ओर बसपा सुप्रीमो मायावती के कल्याण सिंह के साथ रिश्ते कभी अच्छे नहीं रहे, इसके बावजूद मायावती ने कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर पर श्रद्धांजलि अर्पित करने लखनऊ के मॉल एवेन्यू स्थित उनके घर पहुंची थीं और अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव ने तो जैसे कोई प्रतिक्रिया ही देना सही नहीं समझा। बता दें की मायावती ने कल्याण सिंह जी को न सिर्फ श्रद्धा सुमन अर्पित किए बल्कि उनके परिजनों से मुलाकात कर इस दुःख भरे घडी में उनके साथ खड़ी रही जो की राजनीती से बढ़कर एक नेता के व्यक्तिगत सोच को दर्शाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here