भाजपा सांसद ने ओवैसी को कहा भविष्य का जिन्ना, कहा- धर्म के नाम पर देश का एक और विभाजन करने की ओवैसी की है मंशा।

0
171

कन्नौज के भाजपा सांसद सुब्रत पाठक ने असदुद्दीन ओवैसी पर तंज कसते हुए तीखे शब्दो में कहा कि जिस प्रकार धर्म के नाम पर जिन्ना ने देश का बंटवारा कराया था उसी विचारधारा के साथ ओवैसी भी देश का एक और विभाजन कराने की रखते है मंसा ,उन्होंने कहा कि ओवैसी देश के भविष्य के जिन्नाह है वो देश के लिए ठीक नहीं है, वो देश के लिए आने वाला वो बड़ा खतरा लगते है जो जिन्नाह भारत के लिए लग रहे थे, जिस तरह से वो एक ही समुदाय की बात करते रहते है और जिस तरह संसद में उन्होंने आरक्षण की मांग करते है वो दिन दूर नहीं जिस दिन ओवैसी जिन्नाह की तरह धर्म के नाम पर देश के एक और विभाजन की बात कर दे।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव जैसे जैसे करीब आ रहे है वैसे ही पार्टियों में और तमाम नेताओ में जुबानी जंग ,आरोप प्रतिरोप , और तमाम चुनावी पैंतरे तेज़ होते नजर आ रहे है । उत्तर प्रदेश चुनाव के पहले AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भाजपा के खिलाफ सभी विरोधी दलों को एकजुट होने की अपनी बातों को कहा और आरक्षण के मुद्दे पर ओवैसी ने जिस प्रकार से मुस्लिम आरक्षण की मांग रखी उस पर सीधे पलटवार करते हुए कन्नौज के भाजपा सांसद सुब्रत पाठक ने ओवैसी को देश के लिए आने वाला खतरा बताया उन्होंने ओवैसी की तुलना जिन्नाह से करते हुए कहा कि ओवैसी और जिन्नाह में कोई फर्क नहीं दिखता जिस प्रकार देश को तोड़ने का काम जिन्नाह ने किआ उसी प्रकार से ओवैसी की भी मंसा देश के एक और विभाजन की है अपने दिए गए बयान में सुब्रत पाठक ने बार बार इस बात पर जोर देते हुए ओवैसी को भारत के भविष्य का जिन्नाह बताते हुए इस बात पर दावा किया कि ओवैसी औ नहीं तो कल देश को विभाजित करने की मांग जरूर रखेंगे। जिस तरह से वो एक धर्म और समुदाय की बात हर जगह करते है और मुस्लिम आरक्षण की मांग कर रहे है वो भारत की हित की बात नहीं कर रहे बल्कि इसे तोड़ने का काम कर रहे है ।

जानिए मुस्लिम आरक्षण के मुद्दे पर सुब्रत पाठक ने क्या कहा

आरक्षण के मुद्दे पर बात करते हुए सुब्रत पाठक ने कहा कि संविधान देश में सभी पिछड़े वर्गों पर गरीबो पर एस सी,एस टी,ओबीसी सभी वर्गों को जो समाज के विकाश के साथ पीछे छूट गए थे उनको आरक्षण देती है, हमारे सभी हिन्दू भाई बहन जो समाज में पीछे रह गए थे संविधान उन्हें आरक्षण देती है यहाँ तक की देश का बंटवारा धर्म के नाम पर होने के बावजूद भी हमारा संविधान मुसलमानों को भी सामान अधिकार देती है हर वो आरक्षण जो कई जाति वर्ग के लोग दी जाती है वो मुसलमानों को भी दी जाती है पर अगर धर्म के नाम पर ओवैसी अलग से आरक्षण की मांग करते है तो इसे न तो मैं अपना समर्थन दूंगा न ही मेरी पार्टी ।
जब धर्म के नाम पर ही पूरे देश को दो टुकड़ों में बांट दिया गया ,धर्म के नाम पर देश का विभाजन हुआ और धर्म के नाम पर ही हमारे भारत के टुकड़े हुए थे तो अब धर्म के नाम पर आरक्षण की बात करना ओवैसी की देश को आने वाले समय में एक और विभाजन करने की मंसा को दिखाता है ,उन्होंने कहा कि ओवैसी को न तो हिन्दू मुख्यमंत्री पसंद आते है जा हिन्दू प्रधानमंत्री ये जहा जाते है अगर वहाँ इनके का नेता मुख्यमंत्री मुस्लिम है तो उसकी तारीफ के पुल बाँध देते है पर इन्हें एक हिन्दू नेता कत्तई बर्दास्त नहीं होता ।
उन्होंने ये भी कहा कि इनकी छुपी हुई मंसा को इसी बात से पता लगाया जा सकता है कि इनके भाई अकबरुद्दीन ओवैसी जिनका कहना था कि 15 मिनट के लिए पुलिस हटा लो हम अपनी ताकत दिखा देंगे ,जिस प्रकार से देश को तोड़ने की बात ये लोग करते आए है उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि ओवैसी देश में धर्म के नाम पर एक और विभाजन करने की मांग भविष्य में जरूर रखेंगे इसलिए मैं उन्हें भविस्य का जिन्नाह कहता हूँ।
इसके अलावा उन्होंने कांग्रेस पार्टी के ऊपर बात करते हुए कहा कि जिस प्रकार से कांग्रेस पार्टी ने अपने परिवार को देश के भविस्य से ऊपर रखने का कार्य किया है ,जिस तरीके से ये एक ही परिवार ही पार्टी बन गई है अब जनता का इनपर बिल्कुल भरोसा नही रह गया है अब चाहे ये जितना भी सर पैर मार ले ये सत्ता में वापस नही आने वाले।

सुब्रत पाठक ने किआ कन्नौज का मशहूर इत्र, पीएम मोदी को भेंट

सुब्रत पाठक ने बीते दिनों प्रधानमंत्री मोदी से भी मुलाक़ात कि और प्रधानमंत्री मोदी को उन्होंने कन्नौज की मशहूर इत्र भेंट भी किआ इसके साथ साथ उन्होंने कन्नौज में फूलों की खेती के मुद्दे को लेकर काम करने की बात की और साथ ही उन्होंने जिले में आलू आधारित उद्योग लगाने की मांग भी रखा उन्होंने आलू से सम्बंधित किसानों की समस्या से प्रधानमंत्री को अवगत कराया और प्रस्ताव सौंपकर कहा कि किसानों को आलू के उचित मूल्य मिले इसकी व्यवस्था की जाए।

विवादों से ओवैसी भाइयो का पुराना नाता

असदुद्दीन ओवैसी और उनके भाई अकबरुद्दीन ओवैसी का विवादित बयानों और तमाम विवादों से पुराना नाता है बता दे की ये पहली बार नहीं है जब धर्म के मुद्दे पर चुनावी माहौल में ऐसी बातें हो रही है, चुनावी माहौल में सभी पार्टियां एक दूसरे पर आरोप लगाती रहती है पर बात करे अगर ओवैसी भाइयो की तो इनका इन सब से बहुत पहले का नाता है कभी ओवैसी के सभा में पकिस्तान के नारे भी लगे है तो वही नागरिकता संसोधन अधिनियम (CAA) , के मुद्दों पर भी ओवैसी काफी भड़काऊ बयान देते आ रहे है ,बात करे इनके भाई अकबरुद्दीन ओवैसी की तो उन्होंने ये तक कह दिया था कि 10 मिनट के लिए पुलिस हटा दे बाकी हम देख लेंगे खुले मंच से वो काफी भड़काऊ बयान और देश को तोड़ने की बात करते आए है ।

सुब्रत पाठक आखिर क्यों मानते है ओवैसी को भविस्य का जिन्ना जानिए क्या है मुख्य वजह

सुब्रत पाठक के दिए गए बयानों से साफ़ जाहिर है कि वो ओवैसी को देश के लिए आने वाले खतरे की तरह देखते है इसकी मुख्य वजह उन्होंने ओवैसी के एक तरफा बयांन बाज़ी को एक धर्म विशेष के बारे में ही बात करने और अपने ज्यादातर बयानों में देश के मुसलमानों को बहकाने और देश के प्रति नफरत फैलाने के कामो को मानते है जिस प्रकार वो हर समय बस मुसलमानों की बात करते रहते है उन्हें हिन्दू नेता पसंद नही उनको बस मुसलमान ही नजर आते है और धर्म के नाम पर देश को तोड़ने वाली उनकी मंसा के वजह से सुब्रत असदुद्दीन ओवैसी को भविस्य का जिन्ना मानते है और ये दावा करते है कि ये आज नहीं तो कल धर्म के नाम पर देश के एक और विभाजन की बात रखेंगे जो की हमे कत्तई बर्दास्त नहीं इनकी मंसा साफ़ है ये देश के भविष्य के आने वाले जिन्नाह है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here