पीएम नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि “शहरी नक्सलियों” ने सरदार सरोवर बांध परियोजना को वर्षों से रोक दिया था, और सभी से ऐसे आर्थिक विकास विरोधी साजिशकर्ताओं से सतर्क रहने का आग्रह किया है ।

पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार को अर्बन नक्सल पर जमकर भड़के । पर्यावरण मंत्रियों के सम्मेलन में उन्होंने कहा, राजनीतिक समर्थन वाले अर्बन नक्सल ने कई सालों तक विकास कार्यों को रोककर रखा । उन्होंने कहा, राजनीतिक समर्थन प्राप्त ‘‘शहरी नक्सलियों व विकास विरोधी तत्वों ’’ ने गुजरात में नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध के निर्माण को कई वर्षों तक रोक कर रखा । उनका दावा था कि यह पर्यावरण को नुकसान पहुंचाएगा ।

पीएम नरेंद्र मोदी

पीएम मोदी ने कहा, आज यह बांध बनकर तैयार है, तो आप देख सकते हैं कि उनके दावे कितने खोखले थे। उन्होंने कहा आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर के बिना देश का विकास संभव नहीं है, लेकिन हमने देखा है कि पर्यावरण मंजूरी के नाम पर देश में आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण को कैसे उलझाया जाता था।

पीएम नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से गुजरात के एकता नगर में पर्यावरण मंत्रियों के राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए, पीएम ने अंतरराष्ट्रीय संस्थानों और नींवों पर भी भारी पड़ गए, जो एक गीत और नृत्य और स्टाल विकास बनाने के लिए “शहरी नक्सलियों” द्वारा लोकलुभावन अवधारणाओं के साथ सामने आए थे ।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, “इन साजिशों को विफल करने में कुछ समय लगा, लेकिन गुजरात के लोग विजयी हुए । बांध को पर्यावरण के लिए खतरा बताया जा रहा था और आज वही बांध पर्यावरण की रक्षा का पर्याय बन गया है ।” कि सरदार पटेल द्वारा कल्पना की गई सरदार सरोवर परियोजना और जिसकी नींव पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू ने रखी थी, 2001 के बाद ही पूरा हो सका जब उन्होंने गुजरात के सीएम के रूप में पदभार संभाला ।

पीएम नरेंद्र मोदी शहरी नक्सली पर भड़के

पीएम मोदी ने कहा कि “शहरी नक्सली” इतने शक्तिशाली है कि वे विश्व बैंक को भी प्रभावित कर सकते हैं, जो कि बहुपक्षीय संस्था द्वारा सरदार सरोवर परियोजना को निधि देने के अपने फैसले को उलटने का एक संदर्भ प्रतीत होता है, जिसका उद्देश्य नर्मदा के पानी को सूखे हिस्सों में लाना था ।

पीएम नरेंद्र मोदी ने शहरी नक्सलियों  को बताया घातक

पीएम मोदी ने उदाहरणों का हवाला देते हुए कहा कि पर्यावरण को बचाने और जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए देश के प्रयासों को मजबूत करने में हरित मंजूरी कितनी तेजी से आगे बढ़ेगी । उन्होंने कहा कि आठ साल पहले 600 दिनों के मुकाबले अब 75 दिनों में हरी झंडी दे दी गई है ।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा -” मुझे लगता है कि पर्यावरण मंत्रालय की भूमिका एक नियामक के बजाय पर्यावरण के प्रमोटर के रूप में अधिक है … राज्यों द्वारा हर उचित प्रस्ताव को जल्द से जल्द (सभी नियमों का ध्यान रखते हुए और देने के लिए) को मंजूरी देने का प्रयास किया जाना चाहिए । उस क्षेत्र के लोगों के विकास को प्राथमिकता दी जाए ।”

निहित स्वार्थों द्वारा विकास को अवरुद्ध करने की साजिश का आरोप लगाते हुए, उन्होंने कहा कि कैसे “शहरी नक्सलियों” और भारत के आर्थिक विकास के खिलाफ साजिश रचने वालों ने आधुनिक बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के निर्माण के लिए कई बाधाएं पेश की । इस तरह की साजिशों के कारण सरदार सरोवर बांध के निर्माण को पूरा करने में दशकों लग गए, इस पर ध्यान देते हुए, पीएम ने आरोप लगाया कि साजिशकर्ताओं ने विभिन्न वैश्विक संगठनों और फाउंडेशनों से करोड़ों रुपये लेकर भारत के विकास में बाधा डाली ।

पीएम मोदी ने दिल्ली के प्रगति मैदान सुरंग का दिया उदाहरण

पीएम नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में प्रगति मैदान सुरंग का उदाहरण देते हुए, जिसे कुछ सप्ताह पहले यातायात के लिए खोला गया था, उन्होंने कहा, “सुरंग के कारण ट्रैफिक जाम कम हो गया है । इससे हर साल 55 लाख लीटर से अधिक ईंधन बचाने में भी मदद मिलेगी । इससे कार्बन उत्सर्जन में सालाना 13 हजार टन की कमी आएगी जो कि 6 लाख से अधिक पेड़ों के बराबर है… चाहे वह फ्लाईओवर हो, सड़कें, एक्सप्रेसवे या रेलवे परियोजनाएं हों, उनके निर्माण से कार्बन उत्सर्जन को समान रूप से कम करने में मदद मिलती है ।”

पीएम मोदी ने कहा – मैंने पूरा किया नेहरू जी का काम 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, सरदार सरोवर डैम का शिलान्यास आजादी के तुरंत बाद किया गया था । सरदार वल्लभभाई पटेल ने इसमें बहुत बड़ी भूमिका निभाई थी और पंडित नेहरू ने शिलान्यास किया था, लेकिन सारे अर्बन नक्सल मैदान में आ गए । झूठा प्रचार किया गया कि अभियान पर्यावरण विरोधी है । जिस काम की शुरआत नेहरू जी ने की थी वह मेरे आने के बाद पूरा हुआ ।

पीएम मोदी ने कहा, अपने कमिटमेंट को पूरा करने के हमारे ट्रैक रिकॉर्ड के कारण ही दुनिया आज भारत के साथ जुड़ भी रही है । बीते वर्षों में गीर के शेरों, बाघों, हाथियों, एक सींग के गेंडों और तेंदुओं की संख्या में वृद्धि हुई है। कुछ दिन पहले मध्य प्रदेश में चीता की घर वापसी से एक नया उत्साह लौटा है । भारत ने साल 2070 तक नेट जीरो का टार्गेट रखा है । अब देश का फोकस ग्रीन ग्रोथ पर है, ग्रीन जॉब्स पर है और इन सभी लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए, हर राज्य के पर्यावरण मंत्रालय की भूमिका बहुत बड़ी है ।

पीएम ने कहा, मैं सभी पर्यावरण मंत्रियों से आग्रह करूंगा कि राज्यों में सर्कुलर इकोनॉमी को ज्यादा से ज्यादा बढ़ावा दें । इससे सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट और सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्ति के हमारे अभियान को भी ताकत मिलेगी ।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा -आज कई राज्यों में है पानी की किल्लत

पीएम नरेंद्र मोदी ने सम्मेलन के दौरान कहा, आजकल हम देखते हैं कि कभी जिन राज्यों में पानी की बहुलता थी, ग्राउंड वॉटर ऊपर रहता था, वहां आज पानी की किल्लत दिखती है । ये चुनौती सिर्फ पानी से जुड़े विभाग की ही नहीं है बल्कि पर्यावरण विभाग को भी इसे उतना ही बड़ी चुनौती समझना होगा ।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, हमने दुनिया को दिखाया है कि रिन्यूएबल एनर्जी के मामले में हमारी गति और हमारा पैमाने को शायद ही कोई छू सकता है । बड़ी चुनौतियों से निपटने के लिए भारत आज दुनिया को नेतृत्व दे रहा है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here