बीजेपी नेताओं के निशाने पर आए दिल्ली सरकार के मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने पद से इस्तीफा दे दिया है । उन्होंने कहा कि डॉ. भीमराव आम्बेडकर द्वारा दिलाई गई प्रतिज्ञाओं पर बीजेपी गंदी राजनीति कर रही है, जिससे आहत होकर उन्होंने दिल्ली के अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग के मंत्री पद से इस्तीफा दिया है ।

अपने इस्तीफे की जानकारी देते हुए राजेंद्र पाल गौतम ट्वीट करते हुए लिखा, आज महर्षि वाल्मीकि जी का प्रकटोत्सव दिवस है और दूसरी ओर मान्यवर कांशीराम साहेब की पुण्यतिथि भी है । ऐसे संयोग में आज मैं कई बंधनों से मुक्त हुआ और आज मेरा नया जन्म हुआ है । अब मैं और अधिक मजबूती से समाज पर होने वाले अत्याचारों व अधिकारों की लड़ाई को बिना किसी बंधन के जारी रखूंगा ।

दिल्ली की केजरीवाल सरकार के मंत्री राजेंद्र पाल गौतम के हिंदू देवी-देवताओं का बहिष्कार करना आखिरकार उनको भारी पड़ गया और इसकी कीमत उन्हें मंत्री पद गंवाकर चुकानी पड़ी है । राजेंद्र पाल गौतम ने रविवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है । राजेंद्र पाल गौतम आप सरकार में समाज कल्याण मंत्री के पद पर थे । हाल ही में पूर्व मंत्री एक धर्मांतरण कार्यक्रम में शामिल हुए थे, जहां उन्होंने हिंदू देवी देवताओं के खिलाफ विवादित बयान दिए थे। इसको लेकर भाजपा आप सरकार पर हमलावर थी । वहीं सरकार ने भी अपने मंत्री से स्पष्टिकरण मांगा था ।

अपने इस्तीफे की जानकारी देते हुए राजेंद्र पाल गौतम ट्वीट करते हुए लिखा, आज महर्षि वाल्मीकि जी का प्रकटोत्सव दिवस है और दूसरी ओर मान्यवर कांशीराम साहेब की पुण्यतिथि भी है । ऐसे संयोग में आज मैं कई बंधनों से मुक्त हुआ और आज मेरा नया जन्म हुआ है । अब मैं और अधिक मजबूती से समाज पर होने वाले अत्याचारों व अधिकारों की लड़ाई को बिना किसी बंधन के जारी रखूंगा ।

राजेंद्र पाल गौतम ने ये ली थी शपथ

हाल में वायरल हुए एक वीडियो में कोई बौद्ध संत सैकड़ों लोगों को हिंदू धर्म से बौद्ध धर्म में प्रवेश दिला रहे थे । इनमें आम आदमी पार्टी के मंत्री राजेंद्र पाल गौतम भी थे । वीडियो में सभी को यह कहते हुए सुना जा सकता है, ”मैं ब्रह्मा, विष्णु और महेश को नहीं मानूंगा। मैं राम-कृष्ण की पूजा नहीं करूंगा । मैं किसी हिंदू देवी-देवता को नहीं मानूंगा ।”

राजेंद्र पाल गौतम

राजेंद्र पाल गौतम के शपथ के बाद परमहंसाचार्य ने की थी AAP का बहिष्कार करने की अपील

लंबे समय से हिंदू राष्ट्र की आवाज बुलंद कर रहे जगद्गुरू परमहंसाचार्य ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी कर देश भर के रामभक्तों से अपील की है कि वे सभी आम आदमी पार्टी का बहिष्कार करें, क्योंकि आम आदमी पार्टी राम व राष्ट्र विरोधी है ।

वीडियो में परमहंसाचार्य ने कहा है कि आम आदमी पार्टी खुले मंच से अब हिंदुओं का मतांतरण करा रही है । पूरे देश में आम आदमी पार्टी का बहिष्कार किया जाए । संत ने कहा कि तुष्टीकरण करने वाली तमाम राजनीतिक पार्टियां है , लेकिन इतनी नीच हरकत आज तक किसी पार्टी ने नहीं की । इसलिए आम आदमी पार्टी का पूर्ण रूप से बहिष्कार जरूरी है, क्योंकि आम आदमी पार्टी सनातन विरोधी है ।

 

राजेंद्र पाल गौतम के शपथ के बाद विश्व हिंदू परिषद ने की थी कार्रवाई की मांग

इस कथित धर्मांतरण की घटना पर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने कठोर प्रतिक्रिया व्यक्त की थी । संगठन ने इसे साजिशन हिंदू समाज को बांटने और कमजोर करने की साजिश बताया था । विहिप के वरिष्ठ नेता विनोद बंसल ने आरोप लगाया कि अब तक अरविंद केजरीवाल और उनकी आम आदमी पार्टी मुस्लिम तुष्टिकरण कर रही थी और ईसाई मिशनरियों का साथ दे रही थी । अब उसके मंत्री खुलेआम हिंदू धर्म के देवी-देवताओं के खिलाफ बातें कर रहे है और लोगों से उनके खिलाफ शपथ दिलवा रहे है । बंसल ने इसे सबसे खराब राजनीति का चेहरा बताया और कहा था कि इस मामले में कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए ।

राजेंद्र पाल गौतम ने अपने इस्तीफा पत्र में कहीं ये बात

बीजेपी नेताओं के निशाने पर आए दिल्ली सरकार के मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने पद से इस्तीफा दे दिया है । उन्होंने कहा कि डॉ. भीमराव आम्बेडकर द्वारा दिलाई गई प्रतिज्ञाओं पर बीजेपी गंदी राजनीति कर रही है, जिससे आहत होकर उन्होंने दिल्ली के अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग के मंत्री पद से इस्तीफा दिया है । राजेंद्र पाल गौतम ने अपने इस्तीफा पत्र में यह भी कहा है कि बौद्ध धर्म परिवर्तन कार्यक्रम से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कोई नाता नहीं है । उन्होंने कहा कि वह नहीं चाहते कि उनकी वजह से केजरीवाल और आम आदमी पार्टी पर कोई आंच आए । उन्होंने कहा, ” मैं 5 अक्टूबर 2022 को आम्बेडकर भवन पर मिशन जय भीम और बुद्धिस्ट सोसायटी ऑफ इंडिया द्वारा अशोक विजयदशमी पर आयोजित बौद्ध धम्म दीक्षा समारोह में एक समाज का सदस्य होने के नाते व्यक्तिगत रूप से शामिल हुआ था. जिसका आम आदमी पार्टी और मेरे मंत्रिपरिषद से कोई लेना-देना नहीं था ।”

आज महर्षि वाल्मीकि जी का प्रकटोत्सव दिवस है एवं दूसरी ओर मान्यवर कांशीराम साहेब की पुण्यतिथि भी है । ऐसे संयोग में आज मैं कई बंधनों से मुक्त हुआ और आज मेरा नया जन्म हुआ है । अब मैं और अधिक मज़बूती से समाज पर होने वाले अत्याचारों व अधिकारों की लड़ाई को बिना किसी बंधन के जारी रखूँगा ।

राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि पूर्व में बाबासाहेब द्वारा दिलाई गईं ये 22 प्रतिज्ञाएं खुद बीजेपी सरकार के पूर्व केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत ने छपवाई है । उन्होंने कहा कि ये कोई नई बात नहीं है । ये प्रतिज्ञाएं हर साल देश के कोने-कोने में हजारों स्थानों पर करोड़ों लोगों द्वारा दोहराई जाती है । राजेंद्र पाल गौतम ने कहा, ” बाबासाहेब द्वारा दिलाई गईं इन 22 प्रतिज्ञाओं से बीजेपी को आपत्ति है, जिसका इस्तेमाल करके बीजेपी गंदी राजनीति कर रही है । इससे आहत होकर मैं अपने मंत्री पद से त्यागपत्र दे रहा हूं । मैं नहीं चाहता कि मेरी वजह से मेरे नेता अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी पर किसी तरह की आंच आए । मैं पार्टी का एक सच्चा सिपाही होने के नाते तथागत बुद्ध एवं बाबासाहेब द्वारा दिखाए गए न्याय संगत एवं समता मूलक संवैधानिक मूल्यों का आजीवन निर्वाह करूंगा ।”

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here